वरिष्‍ठतम सेवानिवृत अध्‍यापकों और कर्मचारियों को सम्‍मान - SANGRI DARPAN

sponsor

sponsor

Slider

RECENT ACTIVITY-NEWS

ACTIVITIES

NOTICE BOARD

TEACHERS CORNER

STUDENTS CORNER

ACHIEVEMENTS

SANGRIANS

» » » » वरिष्‍ठतम सेवानिवृत अध्‍यापकों और कर्मचारियों को सम्‍मान

पाठशाला ने वरिष्‍ठतम सेवानिवृत अध्‍यापकों और कर्मचारियों को  उनकी सेवाओं के लिए सम्‍मान प्रदान किये। पाठशाला परिवार ने पांच अध्‍यापकों और कर्मचारियों  श्री राम नाथ वर्मा, श्री तुला राम शर्मा, श्री बी0 एल0 गुप्‍ता, श्री चेत राम शर्मा और श्री डी0 आर0 वर्मा को सम्‍मानित करने का निर्णय लिया।  श्री बी0 एल0 गुप्‍ता और श्री डी0 आर0 वर्मा जी अस्‍वस्‍थ्‍ता के कारण इस सम्‍मान समारोह में नहीं आ आ पाए।  पाठशाला मे आयोजित कुमारसैन शिक्षा खण्‍ड की 14 साल से कम आयु वर्ग चार दिवसीय खेल प्रतियोगिता के समापन अवसर पर ये सम्‍मान प्रदान किये गए। समापन समारोह की अध्‍यक्षता प्रो0 विरेन्‍द्र कश्‍यप लोक सभा सांसद शिमला संसदीय क्षेत्र ने की और ये सम्‍मान प्रदान किये। इस अवसर पर उन्‍होने खेल प्रतियोगिता के विजेताओं को भी पारितोषिक वितरित किये।
श्री राम नाथ वर्मा का पुरस्‍कार उनकी पोती शालु वर्मा ने प्राप्‍त किया।
श्री राम नाथ वर्मा शिक्षक के रूप में सेवानिवृत हुए। अस्‍वस्‍थ होने के
 कारण  उनकी पौती ने सम्‍मान प्राप्‍त किया। श्री राम नाथ का जन्‍म
1 अक्‍तूबर 1930 को हुआ । एक मार्च 1948 से 30 सितम्‍बर 1988 तक
विभिन्‍न स्‍थानों पर कार्य करते हुए खण्‍ड प्राथमिक शिक्षा अधिकारी
कुमारसैन के रूप में सेवानिवृत हुए।

श्री चेत राम शर्मा ने सम्‍मान स्‍वयं प्राप्‍त किया। श्री चेत राम शर्मा
का जन्‍म 25 जुलाइ्र 1929 को हुआ। 37 साल और 7 माह की  सेवा
के बाद श्री चेत राम शर्मा 31 जुलाइ्र 1987 को सेवानिवृत हुए। श्री शर्मा
 ने 21 दिसम्‍बर 1950 से  31 जुलाई 1987 तक विभिन्‍न सथानों  पर
 कार्य करते हुए लिपिक  पद से सेवा निवृति प्राप्‍त की। 

श्री तुला राम शर्मा का सम्‍मान उनकी पौती सरिता ने प्राप्‍त किया।
श्री तुला राम शर्मा का जन्‍म 4 दिसम्‍बर 1929 को हुआ। 2 अगस्‍त
1948 से 31 दिसम्‍बर 1987 तक सेवा करते हुए श्री तुला राम ने 39
साल 4 माह और 29 दिन  की सेवा के बाद एस0वी0 अध्‍यापक के
पद से सेवानिवृति प्राप्‍त की।


«
Next
नई पोस्ट
»
Previous
पुरानी पोस्ट

1 comments:

  1. आपके स्‍कूल ने यह अच्‍छा प्रयास किया है। पाठशाला के सभी सदस्‍यों को साधुवाद और सम्‍मानित अतिथियों को बधार्इ्र।

    उत्तर देंहटाएं


विद्यालय पत्रिका सांगरी दर्पण पर आपका स्‍वागत है। आप यहां तक आए हैं तो कृपया अपनी राय से जरूर अवगत करवायें। जो जी को लगता हो कहें मगर भाषा के न्‍यूनतम आदर्शों का ख्‍याल रखें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखें है अनाम की स्थिति में अाप अपना नाम और स्‍थान जरूर लिखें । आपके स्‍नेहयुक्‍त सुझाव और टिप्‍पणीयां हमारा मार्गदर्शन करेंगे। कृपया टिप्‍पणी में मर्यादित हो इसका ध्‍यान रखे। यदि आप इस विद्यालय के विद्यार्थी रहें है तो SANGRIANS को जरूर देखें और अपना विवरण प्रेषित करें । आपका पुन: आभार।