सतीश वर्मा - SANGRI DARPAN

sponsor

sponsor

Slider

RECENT ACTIVITY-NEWS

ACTIVITIES

NOTICE BOARD

TEACHERS CORNER

STUDENTS CORNER

ACHIEVEMENTS

SANGRIANS

» » सतीश वर्मा


external image rjv014.jpg
बडागांव सांगरी के शहीद सतीश वर्मा ने एक छोटी सी आयु में सांगरी और शिमला के युवाओं कोराष्ट्र सेवा का सन्देश दिया !

जन्म :- 21 अप्रेल 1972 को पिता करम चंद और माता आमलू देवी के घर सतीश वर्मा ने जन्म लिया
शिक्षा : -सतीश कुमार ने अपनी पढ़ाई राजकीय प्राथमिक पाठशाला और राजकीय वरिष्ठ माद्यमिक  पाठशाला बडागांव (सांगरी) से की मार्च 1988 में दसवी परीक्षा पास कर द्वितीय  बटालियन डोगरा रेजिमेंट में भारती हुए !
साहसिक कार्य: -साहसिक कामों के परिणाम स्वरुप सतीश वर्मा को अनेक प्रन्संसा पात्र दिए गए ! 1991 से 93 में इन्होने जालंधर के सी आपरेशन के दौरान काकड़ सेक्टर में दुश्मनों का जम कर सामना किया
और कारगिल की ऊँची चोटी  पी हिल पर कब्जा करने केदौरान सुरक्षा में महत्वपूरण भूमिका
निभाई ओपरेशन के समय वे राजस्थान में तेनात थे !  इसके बाद जून 2001 में इन्हें मश्कोहघाटी कारगिल भेजा गया जहाँ सतीश वर्मा को सिपाही से लांस नायक की पदौनती दी गई ! 11 जुलाई 2001 को द्वितीय बटालियन डोगरा रेजिमेंट के सी आई ओपरेशन के समय गुरेज सेक्टर केब्रोब गाँव में  पेट्रोलिंग लाइन पर चोकसी के दौरान दुश्मनों से मुठभेड़ हुई ! इसमें सतीश वर्मा ने तीन दुश्मनों को ढेर किया और स्वयं भी मातृभूमि पकी रक्षा करते हुए शहीद हो गए !
अंतिम विदाई:- 15 जुलाई 2001 को शहीद सतीश कुमार का अंतिम संस्कार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बड़ागांव के मैदान मै किया गया गाँव के लोगो,सतीश वर्मा के सहपाठियों,परिवारजनों और 1832 एलटी रेजिमेंट के कमांड ऑफिसर ऐ के मोरे सहित मेजर जे सी ओ तथा सेना के जवानो , रामपुर बुशहर के एस डी ऍम अरविन्द शुक्ला, डी एस पी रामपुर बुशहर सहित अनेक लोगो ने शहीद सतीश वर्मा को श्र्दासुमन अर्पित किये..
यादगार :- राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बड़ागांव के मैदान मे शहीद सतीश वर्मा की याद मे उनकी प्रतिमा लगाई गयी जोकि युवाओ और अन्य सभी लोगो को देशभक्ति की सीख देती है

external image 7769728315279871381-6028785164805139107?l=brahmeswer.blogspot.com

«
Next
नई पोस्ट
»
Previous
पुरानी पोस्ट

कोई टिप्पणी नहीं:

Leave a Reply


विद्यालय पत्रिका सांगरी दर्पण पर आपका स्‍वागत है। आप यहां तक आए हैं तो कृपया अपनी राय से जरूर अवगत करवायें। जो जी को लगता हो कहें मगर भाषा के न्‍यूनतम आदर्शों का ख्‍याल रखें। हमने टिप्‍पणी के लिए सभी विकल्‍प खुले रखें है अनाम की स्थिति में अाप अपना नाम और स्‍थान जरूर लिखें । आपके स्‍नेहयुक्‍त सुझाव और टिप्‍पणीयां हमारा मार्गदर्शन करेंगे। कृपया टिप्‍पणी में मर्यादित हो इसका ध्‍यान रखे। यदि आप इस विद्यालय के विद्यार्थी रहें है तो SANGRIANS को जरूर देखें और अपना विवरण प्रेषित करें । आपका पुन: आभार।